भ्रष्टाचार राज्य

भ्रष्ट निरीक्षक इंद्रजीत यादव किसके संरक्षण में कई वर्षो से गोंडा जनपद तैनात होकर मलाई काट रहा है , मुंहमांगी रिश्वत की रकम न पाने पर विवेचना में साक्ष्य क़ो उठा कर फेंक लगाता है फर्जी चार्जसीट ।

ब्युरो रिपोर्ट न्यूज़ प्लस इण्डिया

यूपी गोण्डा । जनपद का चर्चित मामला जो किसी से छिपा नही है जिसमे अधिवक्ता पंकज दीक्षित का कुछ दिनो पूर्व तत्कालीन उपजिलाधिकारी सदर नितिन गौड़ से कुछ विवाद हो गया था जिससे श्री गौड़ आहत होकर अपने पद व प्रभुत्व के नशे में चूर होकर बिना अधिकार के आदेश जारी कर एक ही दिन कोतवाली नगर में दो मुकदमे अपराध संख्या 472 व 473 कोतवाली नगर में दर्ज कराया था जिसमे विवेचक इन्द्र जीत यादव ने अधिवक्ता पंकज दीक्षित से दोनो मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट लगाने के लिए 20 हजार रुपए की मांग की थी जिसकी अदायगी न होने पर विवेचक इंद्रजीत यादव ने अधिवक्ता पंकज दीक्षित द्वारा प्रस्तुत सभी साक्ष्य क़ो फाड़कर फेंक दिया और कहा कि ठीक है जाइए मुझे जो करना होगा मै करूंगा आपको जो करना होगा आप करिएगा , उसके बाद भ्रष्ट निरीक्षक बिना पीड़ित का बयान व साक्ष्य सम्मिलित किए बगैर मुकदमा अपराध संख्या 473 में फर्जी तरीके से तत्कालीन उपजिलाधिकारी नितिन गौड़ क़ो ख़ुश करने व वाह वाही जीतने के चक्कर में फर्जी चार्ज सीट भेज दिया है , जिसकी जानकारी होने पर अधिवक्ता पंकज दीक्षित ने जिलाधिकारी गोंडा से व्यक्तिगत रूप से मिलकर भ्रष्ट निरीक्षक के कारनामों की जांच एवं उचित कार्यवाही की मांग की है जिसमे जिलाधिकारी महोदय ने पुलिस अधीक्षक गोंडा क़ो जांच सौंप कर उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है , उक्त प्रकरण के समन्ध में श्री दीक्षित ने बताया की इंद्रजीत यादव बहुत ही भ्रष्ट दरोगा है जिसको पुलिस उच्चाधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है इससे काफी वर्षो से गोंडा जनपद में भिन्न भिन्न कार्यालयों में तैनात होकर मलाई काट रहा है , इस भ्रष्ट दरोगा की शिकायत की गयी है जिलाधिकारी महोदय ने कप्तान क़ो जांच सौपी है यदि विभागीय मामला होने के नाते कार्यवाही करने के बजाय लीपापोती की गयी तो बार एसोसियेशन गोंडा के अध्यक्ष और महामंत्री के साथ बैठक कर उक्त प्रकरण की चर्चा करूंगा और बड़े आंदोलन की तयारी की जाएगी , आगे चलकर श्री दीक्षित ने कहा ऐसे भ्रष्ट दरोगा से निपटने के लिए कमर पूरी तरह से कस लिया हूँ उच्च न्यायालय और शासन तक लड़ाई लड़ी जाएगी । अब देखना यह है कि मामले क़ो कप्तान और पुलिस उप महानिरीक्षक कितनी गंभीरता से लेते है और क्या कार्यवाही करते है ।

Rajni Kant Tiwari
यूपी प्रभारी न्यूज़ प्लस इण्डिया सम्पर्क सूत्र 9839946832
http://www.newsplusindia.in