अपराध

कौड़िया पुलिस नही दर्ज कर रही पीड़ित का मुकदमा

गोण्डा । नशीला पदार्थ खिलाकर गरीब दलित की नशे की हालत में जमीन का बैनामा करा लिया।
सियाराम पुत्र देवतादीन निवासी ग्राम कटौली थाना कौड़िया जनपद गोण्डा की अराजी गाटा संख्या 101मि क़ो विपक्षी अमृत लाल यादव पुत्र गुल्ले निवासी ग्राम पारसिया रानी थाना कौड़िया ने अपने सहयोगियो के साथ मिलकर छल कपट व धोखे से फ़र्जी बैनामा दस्तावेज तैय्यार कराकर उस पर अंगूठा लगवा लिया , जिससे पीड़ित पूर्णतयः अनभिज्ञ था , पीड़ित का आरोप है की वह अनुसूचित जाति का अनपढ़ व निर्धन व्यक्ति है यदि उसको अपनी सम्पत्ति बेचनी होती तो वह सक्षम अधिकारी से अनुमति लेता और प्रतिफल प्राप्त करके अपनी उक्त सम्पत्ति क़ो अन्य जाति के पक्ष में विक्रय करता , ज्ञातव्य हो की पीड़ित के पास ना तो सक्षम अधिकारी द्वारा उक्त सम्पत्ति का विक्रय हेतु अनुमति पत्र था ना ही पीड़ित क़ो कोई प्रतिफल प्राप्त हुआ है , विपक्षी जाल साज एंव फ्राड किस्म का व्यक्ति है जिसने पीड़ित क़ो नशीला पदार्थ खिला पिला कर अपनी जाति छिपाकर उक्त सम्पत्ति का दस्तावेज बैनामा तैयार करा लिया है, और जब पीड़ित ने उक्त अराजी क़ो भग्गन प्रसाद पुत्र गजराम जाति अनुसूचित निवासी ग्राम पारसिया रानी , जनपद गोण्डा के पक्ष में विक्रय करके प्रतिफल प्राप्त कर लिया जिसकी जानकारी विपक्षी अमृतलाल क़ो होने पर उसने राजस्व कर्मियों से मिली भगत करके बिना सम्मन नोटिस भेजवाये बगैर अपने पक्ष में नामांतर आदेश करवा लिया जो की 02-03-2019 क़ो नामांतर आदेश निरस्त हो गया , उसके बाद विपक्षी ने पीड़ित क़ो अपने घर बुलाकर 2 लाख रुपया बतौर प्रतिफल लेकर अपने पक्ष में बयान देने हेतु दबाव बनाने लगा जिससे पीड़ित ने इनकार कर दिया तो विपक्षी ने पीड़ित क़ो जान से खत्म कराकर लाश गायब कराने की धमकी देते हुऐ भगा दिया , पीड़ित ने थाने पर शिक़ायत किया परन्तु कोई कार्यवाही नही हुई तब पुलिस अधीक्षक क़ो शिकायती पत्र भेजकर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराकर समुचित सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराने की मांग की है परन्तु विपक्षी दबंग व राजनैतिक संरक्षण प्राप्त व्यक्ति है , इसलिए स्थानीय पुलिस प्रभाव एंव दबाव में कोई कार्यवाही नही कर रही है ।

*क्या कहते है पीड़ित के अधिवक्ता पंकज दीक्षित ।*

_मामला काफी गंभीर प्रकृति का है , पीड़ित पक्ष अनुसूचित जाति का अनपढ़ व्यक्ति है , विधिनुसार अन्य जाति क़ो सम्पत्ति अंतरण करने हेतु जिलाधिकारी से अनुमति लेना आवश्यक होता है परन्तु पीड़ित के पास उक्त सम्पति क़ो अन्य जाति के पक्ष में अंतरण हेतु अनुमति पत्र भी नही था ,और विपक्षी ने अपनी जाति छिपाकर अपने सहयोगियो के साथ मिलकर पीड़ित क़ो नशीला पदार्थ खिला पिला कर बैनामा दस्तावेज बनवाकर उसमे अचेता अवस्था में पीड़ित का अंगूथा लगवा लिया , पीड़ित ने बताया जब उसने उक्त सम्पत्ति का विक्रय भग्गन प्रसाद क़ो वैध रूप से करके प्रतिफल प्राप्त कर लिया तब विपक्षी बिना सम्मन नोटिस भेजवाये बगैर अपने नाम नामांतर करा लिया जो बाद में निरस्त हो चुका है , अब विपक्षी अपने पक्ष में बयान देने हेतु तरह तरह के प्रलोभन दे रहा है इनकार करने पर खत्म कराकर लाश गायब कराने की धमकी दे रहा है , पीड़ित इसी डर से गाँव से पलायन क़ो मजबूर हो गया है और अपना मकान बेचने की योजना में है ।_

उक्त घटना की जानकारी पुलिस अधीक्षक क़ो दी गयी है परन्तु अभी तक कोई भी कार्यवाही नही हुई है । जबकि पीड़ित निर्धन व असहाय व्यक्ति है प्रशासन के अलावा किसी अन्य से कोई सहयोग की उम्मीद नही है ।

News Plus India
साप्ताहिक समाचार पत्र व न्यूज पोर्टल
http://newsplusindia.in