भ्रष्टाचार राज्य समस्या

बाज़ नही आ रहा अपनी हरकतों से अक्सर सुर्खियों में रहने वाला पूर्ति विभाग

“डी.एम.से हुई शिकायत फ़िर भी नही मिल रहा गरीबों को न्याय , गरीब दाने दाने को मोहताज , दर दर भटकने को हूए मजबूर ।

रिपोर्ट सुधीर शुक्ल जिला संवाददाता गोण्डा

यूपी गोण्डा । मामला यूपी के गोंडा जनपद के खाद्य एवं रसद विभाग का है जो अक्सर अपने कारनामों से सुर्खियों में बना रहता है , इतना ही नही इसी विभाग के घोटाले में पूर्व जिलाधिकारी जे.बी.सिंह सस्पेंड भी हो चुके है । वहीं एक चौकाने वाला ताजा मामला प्रकाश में आया है जिसमे सीहाँगांव के दो पात्र अंत्योदय गरीब लाभार्थियों ने जिलाधिकारी गोंडा के समक्ष उपस्थित होकर आंख में आँसू भरकर अपना दर्द बया किया था जिसमे उनका आरोप था कि ग्राम प्रधान एवं सचिव के इशारों पर पूर्ति विभाग द्वारा बिना किसी जांच पड़ताल के उनका नाम काट दिया गया जिससे अब उनको खाद्यान्न नही मिल पा रहा है और वह भुखमरी के कगार पर आ चुके है ।

जिस पर अधिकारी ने उनको आश्वासन दिया था कि जांच कराकर यदि वह पात्र पाए जाएंगे तो उनका नाम पुनः सम्मिलित करा दिया जाएगा लेकिन दो माह से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी अब तक न तो कोई जांच हुई न ही उनको योजना में समायोजित किया गया जिससे अब उनको खाद्यान्न नही मिल पा रहे है और अब वह दाने दाने को मोहताज है, गरीबों का कहना है कि जिला का सबसे बड़ा अधिकारी जिलाधिकारी होता है उससे शिकायत करने के बाद भी न्याय नही मिल पा रहा है तो अब वह गरीबी के वजह से दिन प्रतिदिन दौड़ भाग और पैरवी भी नही कर सकते है क्योकि पीड़ितो का कहना है एक दिन मजदूरी करेंगे तो दिहाड़ी मिलेगी तो उससे उनको राशन तो मिल सकेगा नही तो वह अन्न के अभाव में भूखों मर जाएंगे ।

आइए जानते है क्या कहते है मामले की पैरवी कर रहे अधिवक्ता पंकज दीक्षित ।

इस मामले में पैरवी कर रहे अधिवक्ता पंकज दीक्षित से जानकारी ली गयी तो उन्होने बताया कि मामला उनके संज्ञान में है ,उन्होने कहा गरीबों को न्याय दिलाने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है , अधिकारियों , कर्मचारियों से निरन्तर वार्ता किया जा रहा है , मामला सोशल मीडिया पर पूर्व में प्रकाशित भी हो चुका है जिसका संज्ञान जिलाधिकारी महोदय गोंडा ने भी लिया था ,लेकिन यह समझ से बाहर का विषय है कि आखिर पूर्ति विभाग जिलाधिकारी के आदेशों / निर्देशों को ताख पर रखकर मनमानी तरीके से भ्रष्टाचार में संलिप्त होकर अंत्योदय कार्डधारकों के सूची में खेल क्यो कर रहा है ? और पात्र लाभार्थियों को बिना किसी जांच के सूची से उड़ा दिया जा रहा है यह अपने आप में एक अहम प्रश्न है । आगे चलकर उन्होने कहा कि जिला प्रशासन से यदि नही मिलेगा पीड़ितो को इंसाफ तो वह लोकायुक्त से अपने खर्चे पर कराएंगे जांच और जरूरत पड़ी तो जनहित याचिका भी खुद के खर्चे से डाल कर मामले कि निष्पक्ष जांच कराएंगे ।

आइए जानते है क्या कहना है जिलापूर्ति अधिकारी गोंडा का ।

अधिवक्ता पंकज दीक्षित ने गोंडा जिलापूर्ति अधिकारी वीरेंद्र महान से संवाद किया तो उन्होने बताया कि प्रकरण उनके संज्ञान में है और वह इस प्रकरण को जल्द देखवा कर काटे गये पात्र लाभार्थियों का नाम जोड़वा देंगे लेकिन अभी तक काटे गये पात्र लाभार्थियों का नाम सूची में जोड़ा नही गया है ।

“पूर्ति निरीक्षक बालेश्वर मनि त्रिपाठी का बयान”

उक्त प्रकरण के समन्ध में उनका कहना है कि अंत्योदय योजना केंद्र सरकार की है इसमे वह पंचायत के द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव के आधार पर अंत्योदय योजना में नाम घटा बढ़ा सकते है , अब मामला यहाँ आकर अटक जा रहा है कि पात्र लाभार्थियों का नाम ग्राम प्रधान एवं सचिव ने रंजिशन कटवाकर अपने नजदीकियों का नाम दर्ज करवाया है तो अब ऐसे में पंचायत प्रस्ताव को क्यो इतनी आसानी से बदलेगा ? ऐसे में प्रस्तुत शिकायती पत्र का जांच करना और उसकी रिपोर्ट जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करके यथास्थिति स्पष्ट करना तो लाजमी ही था जिससे जिलाधिकारी महोदय द्वारा दोषी एवं हितबद्ध प्रधान तथा सचिव को तलब कर उनके विरुद्ध कार्यवाही कर पात्र पूर्व लाभार्थियों को पुनः योजना में बहाल करने हेतु आदेशित / निर्देशित किया जा सकता था ,लेकिन दो माह से अधिक का समय बीत जाने पर पूर्ति निरीक्षक द्वारा जिलाधिकारी के आदेश को नजरअंदाज कर कोई कार्यवाही अथवा जांच करना उचित नही समझा ऐसे में उनकी भूमिका संदेह के घेरे में मानी जा रही है और सूत्रों का कहना है कि जानबूझकर गरीब पीड़ित पात्र अंत्योदय कार्ड धारकों का नाम सूची से उड़ा दिया गया है जबकि वह पूर्णतः पात्र है और कई अर्सौ से शासन के महत्वकांक्षी योजना से लाभान्वित हो रहे थे ।

पीड़ित का कथन –
पीड़ितो का कहना है कि एक बार जिलाधिकारी से और मिलकर शिकायत करूंगा न्याय मिला तो ठीक है नही तो चुपचाप घर बैठूंगा और मेहनत मजदूरी करके जीवन यापन करूंगा ।

Rajni Kant Tiwari
यूपी प्रभारी न्यूज़ प्लस इण्डिया सम्पर्क सूत्र 9839946832
http://www.newsplusindia.in